Mon. Oct 21st, 2019

ट्रक का पहिया पांव के ऊपर से उतर गया, अब वर्ल्ड चैम्पियनशिप में गोल्ड लाने की जिद

Lorem ipsum dolor sit amet,sed diam nonumy eirmod tempor invidunt ut labore et dolore magna aliquyam erat, At vero eos et accusam et justo duo dolores et ea rebum. Lorem ipsum dolor sit amet, no sea takimata sanctus est Lorem ipsum dolor sit amet. Stet clita kasd gubergren, no sea takimata sanctus est Lorem ipsum dolor sit amet. no sea takimata sanctus est Lorem ipsum dolor sit amet. no sea takimata sanctus est Lorem ipsum dolor sit amet. sed diam voluptua.

उसे बचपन से ही यह जुनून रहा है कि एक दिन अपने देश के लिए मेडल लेकर आए। इसी मकसद को अंजाम तक पहुंचाने के लिए वह दो घंटे सुबह और दो घंटे शाम को जिम में वेट लिफ्टिंग की प्रेक्टिस करता। 28 मई 2005 के दिन वह अपनी बाइक पर जिम में जा रहा था। चिराग दिल्ली चौराहे पर तेज रफ्तार में आ रहे एक ट्रक ने उसे टक्कर मार दी। एक पांव के उपर से ट्रक का अगला पहिया उतर गया। डॉक्टरों ने दो साल बिस्तर पर रखा और फिर सत्तर फीसदी विकलांगता का सर्टिफिकेट देकर घर भेज दिया। …लगा कि जिंदगी खत्म।मगर नहीं। खानपुर निवासी विक्रम केम ने हार नहीं मानी। विकलांगता की स्थिति में एक बार फिर से मुकाम की ओर बढ़ना शुरू किया। टारगेट रखा, वर्ल्ड चैम्पियनशिप में देश के लिए गोल्ड। विक्रम बीती छह जनवरी को नेशनल चैंपियन बना है और स्लोवाकिया में अक्तूबर माह में होने वाली वर्ल्ड चैम्पियनशिप मुकाबले के लिए भी उसका चयन हो गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *